दाङ ओ थारु रज्वा ‘दंगीशरण’

दाङ ,
आजसे एक हजार बर्ष पैल्ह दाङम थारु रज्वा दंगीशरण राजकाल कर्ल कना प्रमाणित हो स्याकल बा । तुलसीपुर उपमहानगरपालिका–११, सुकौरास्थित सुकौराकोटम राजधानी बनाख राज्य संचालन कर्लक् प्रमाण उत्खनन्के ब्याला फ्याला परल बा । एकहजार बर्ष पैल्ह दाङम थारु रज्वा दंगीशरण राज्य करल बट्कोही थारु समाजक बुह्राइल पुरान मनै आम्हफे बटोइठ ।
रज्वा राज्य करबेर न्याङ्गल, घुमल, शिकार ख्यालल, गर्मी छल राजाकोटम गइल, शिकार ख्यालल बन्वा, लहाइल बुल्बुल्या टल्वा, पानी पियल रानी ज¥वा आम्ही फे पलि बा ।
कसिख हुइल दंगीशरण रज्वा ?
दाङम सात ठो प्रगन्ना रलकम आज पाँच ठो प्रगन्ना जिवित बा । अघला प्रगन्ना, सवारी, छिल्ली, पातु ओ पछ्ला प्रगन्ना आम्ही फे काम कर्टी बाट । ग्वार खोल्ह्वक् पश्छिउँ, घोराही–तुलसीपुर–कालिमाटी सडक खण्डक् दक्खिनम पर्ना भू–भागह पछ्ला प्रगन्ना, तुलसीपुर–कालिमाटी सडक खण्डक् उत्तर बागर खोल्ह्वासम ओ तुलसीपुर आसपास क्षेत्रम पातु प्रगन्ना, ग्वार खोल्ह्वासे कपासी बग्यासमके सवारी, कपासी बग्यासे हापुर खोल्ह्वासम छिल्ली ओ कपासी बग्यासे पूरुवओँर अघला प्रगन्ना कैजइठा । यी भू–भागम प्रगन्ना चलइना देशबन्ढ्या गुर्वाव आपन क्षेत्रम हुइना झैझग्रा मिलैना, मालपोत (जग्गाके तिरो तिर्ना), लगायत कामक् लाग दंगीशरणह चुन्ल । पाछ जाख उहो दाङम राजकाज कर लग्ल । कुछ बर्षक् लाग दंगीशरणह देशबन्ढ्या गुर्वाव सँ¥वा (सरदार) बनैलसे फे शक्तिक् आडम दंगीशरण राजकाज कर लग्ल कना इतिहास बा ।
दंगीशरण रज्वक् गर्मी छल्ना ठाउँ ‘राजाकोट’
दंगीशरणके बराभारी शक्ति रलहन् । दंगीशरण शिकार ख्यालल, लहाइल ओ राजकाज कर्ना ब्याला बनल संरचना आम्हसम फे ड्याख सेक्जइठा । रज्वा राजकाज कर्ना ब्याला दाङम औलो लग्ना हुइलमार गर्मीमसे बँचक लाग कोट जइना करट । उ ठाउँह राजाकोट कइजइठा । उ ठाउँम हाल नेपाल टेलिकम ओ नेपाल टेलिभिजनके टावर बा ।
रज्वक दरवार हुइल ठाउँ सुकौराकोटठेसे सिड्ढ दक्षिणतरफके चुरे पर्वट्वक् सक्कुनसे ढ्याङ् ठाउँम दंगीशरण गर्मीक ब्याला बइठ जइना हुइलमार उ ठाउँह राजाकोट कलक हो । गर्मीक् ब्याला रज्वा दंगीशरण राजाकोटम जाख राजकाज करट ।
दंगीशरणके शिकार ख्यालल ‘रानीबन’
रज्वा दंगीशरण राज्य कर्ना क्रमम शिकार ख्यालल बन्वा फे दंगीशरण गाउँपालिकाम पर्ठा । उ बन्वह गाउँपालिका पर्यटकिय स्थलके रुपम विकास कर्टी बा । दंगीशरणके दरवार रलक् ठाउँठेसे उत्तरम पर्ना बन्वम दंगीशरण शिकार ख्यालट कना किवदन्ती बा । राजकाज चलइना क्रमम डटकरावन मेटाइक लाग रज्वा दंगीशरण आपन रानीह लेख रानीबन्वम शिकार ख्याल जाइट ।
दंगीशरण लहैना ‘बुल्बुल्या टल्वा’
दंगीशरण रानीबन्वक् संघसंघ दाङक् पश्चिम मठौरीम रहल एक्ला पहाड, चुरे तथा महाभारत पर्वट्वमफे शिकार कर जाइट । शिकार कइख घुमबेर आपन रानीसे बुल्बुल्या दंगीशरण गाउँपालिका–३, चखौराम रहल बुल्बुल्या टल्वम लहाख सुकौराकोटम घुमट । दंगीशरणके सन्तान निजर्मना हुइलमार सन्तान प्राप्तिके लाग आपन रानीह लेख बुल्बुल्या टल्वम लहाए आइट ।
सन्तान प्राप्तिके लाग हर बरस माघ १ गते बुल्बुल्या टल्वम लहाइल पाछ लर्का जर्मलन कना विश्वास बा । उहो मान्यताके आधारम सन्तान निहुइना मनै हर बरस माघ १ गते बुल्बुल्या टल्वम लहाए अइठ । दाङ, बाँके, बर्दिया, कैलाली, कञ्चनपुरके मनै लहाए अइठ । सन्तान निहुइल मनै लहाख लर्का पाइल ढेर उदाहरण बा । लहाख लर्का पाइज मनै तीन–चार बरसके लर्का लेख फेडोस लहाए अइना कर्ठ ।
बुलबुल कर्ख पानी निस्कना हुइलमार यहिह बुल्बुल्या टल्वा कैगइलक् हो । बुल्बुल्या टल्वम मैन्हावारी हुइल जन्नी मनै लहैलसे निमजा हुइट कना जनविश्वास बा । महिनावारी हुइल जन्नी मनैया लहइलसे लहाइल जन्नी मनैया बेराम परजैठ,’ चखौराके मटावा पूर्णबहादुर चौधरी कल ।
दंगीशरण पानी पिना ठाउँ ‘रानी जँरवा’
राजकाज कर्ना ब्याला रज्वा दंगीशरण आपन राज्यके जनतन्हक् पिरमर्का बुझ गाउँ–गाउँम जाइट । यहोँर उहोर जाख घुमबेर रज्वा दंगीशरण दंगीशरण गाउँपालिका–३, रातगाउँस्थित रानी जँरवाक् पानी पियट । रानी जँरवाक पानी बहुट मिठ हुइलमार रज्वा यहोँर उहाँेर घुम्ख दरबारम घुमबेरकेल निहोख दरवारम बैठल ब्याला पियक लाग फे रातगाउँके रानी जँरवमक् पानी लिहे पठाइट । उहोमार उ रानी जँरवक नाउँ रानी जँ¥वा रह गैलक हो । कब्बु फे निसुख्ना उहो रानी रानी जँरवा संरक्षण अभावम अलपत्र अवस्थामा बा ।
दंगीशरणके धन गारल ठाउँ ‘धनटाक्र्या’
अन्य रज्वन्हक् नेन्ढ दंगीशरण रज्वा फे आपन सम्पत्ती जोगाइक लाग रज्वा दंगीशरण चुरे पर्वट्वक् रहरपुरके लग्घ धन गर्ल रलह । उ ठाउँम आम्ह फे पठ्रा जसिन डेख मिल्ना प्राचिन रुप्या ओ परापूर्व कालम बेल्सलक् माटीक भाँरा ओ इट्टाके टुक्रा आम्ह फे अवशेषके रुपम ड्याख सेक्जइठा । रज्वा दंगीशरण आपनठे रहल रुप्या, पैँसा उहो पख्वम धन गारल मार उ ठाउँके नाउँ धनटाक्र्या रहल कना जनविश्वास बा ।
बारजन बर्डिउलीन्हक् लट्ठी गारल ठाउँ ‘बार बर्दिया’
पशु पालन कर्टी दंगीशरण गाउँपालिका–१, रहरपुरस्थित चुरे पर्वट्वक् जरीम आपुगल गोपाल बंशक् बार जन बर्डिउलीन्हक् गारल लट्ठी जागल बट्कोही अनुसार उ सख्वक् रुख्वा आम्हिफे ड्याख सेक्जिैठा । गोरु, भैँस चह्राए आइल बार जन बर्डिउलीन्हक् लगाइल रुख्वा रहल ठाउँह ‘बार बर्दियक् लट्ठा’ कैजैठा ।
बार जन बर्डिउली मसे एक जहन आपन समूहमसे हटाइल ओ आउरज लगाइबेर हिट्वा फे रुख्वा लगाइल । हिट्वक् लगाइल रुख्वा आम्हफे जिटिहे बा । उ रुख्वह ‘हिट्वक् लट्ठा’ कठ ।
खेतीपातीक् लाग पानी निपर्लसे पूजा कर्ना ठाउँ ‘बैकरह्वा’
खेतीपातीक् लाग पानी निपर्लसे पूजा कर्ना ठाउँह ‘बैकरह्वक् पर्वट्वा’ कैजैठा । पानी निपर्लसे पानी पारडेहक् लाग ‘बैकरह्वा’ डिउँटक् पूजा कर्लसे पानी बरसठा कना विश्वास बा । चुरे पर्वत अन्तरगत दंगीशरण गाउँपालिका–१, मलई कना पर्वट्वम उक्त बैकरह्वा डिउँटा बाट । बैकरह्वाह थारु जाति इन्द्र डिउँटाके रुपम पूजा कर्टी आइल बाट ।
थारु जन्नी मनैया सती गैलक् ठाउँ ‘सति मन्दीर’
विक्रम सम्वत् १९४२ मा दंगीशरण गाउँपालिका–४, बैवाङगक् रघुनाथ चौधरीक् जन्नी (पत्नी) सती गइलक् स्थानम ‘सतीदेवी’ मन्दीर बनाइल बा । उहाँ सती जैना ब्याला सती प्रथा अन्त्य होस्याकल रह । सती मन्दीर रहल ठाउँम बबई (दङ) लड्या रह ओ उहो ठाउँम बराभारी टल्वा रह कना विश्वास बा ।
रघुनाथक् मृत्यू पाछ हुँकाहार जन्नी सती जैजना इच्छा कर्ली । तर, प्रहरी, प्रशासन सती जैनासे र्वाक ख्वाजल । उहोफे उ आपन ठरोक् संग सती जाख छोर्ना अडान लेली । डाई सती जाई लग्लिन ट पछल्डङ्ग्या थरम भ्वाज हुइल हुँकाहार छाई जिन जाव कैख विन्ति कर्लिन्, तर फे छाइक् विन्ति निसुन्खन सती जाख छोर्ली । ‘सती जैना ब्याला उ छाई चिन्ता जिनल्या, टुँहार क्वाखम ज्ञानी ओ विद्वान छावा जरम लेही कैख आशिष डेख सती गइली्,’ बैबाङके भागिराम चौधरी कल, ‘उहाँक् कहल अस सतिदेवीक् छाइक् क्वाखमसे भगवती नाउँ करल ज्ञानी ओ विद्वान छावा जर्मल । भगवती बेराम परल मनैन् छुटिकी चुम्मर हुइट ।’
भगवतीक् नाउँ दाङ जिल्लाभर फैलल् रलहन् । सतीदेवीक् आशिर्वादले भगवती पछल्डङ्ग्याह ज्ञान प्राप्त हुइलन कना विश्वासले दाङ लगायत बाँके, बर्दिया, कैलाली, कञ्चनपुरीक् सर्वसाधारण पूजापाठ कर आम्हफे सती मन्दिरम अइटी रठ । सती मन्दिर परिसरमा रहल टल्वम माघ १ गते लहैलसे लर्का निहुइना मनैन्हक् लर्का जर्मठन् कना धार्मिक विश्वास बा ।
सन्तान निहुइल मनै सन्तान पाइक लाग माघे सक्रान्तिम लहैलसे सन्तान पैना कलर्क भागिराम चौधरी बटोइल । ढेर बरससम सन्तान निहुइल मनै सती मन्दिर परिसरम रहल टल्वम लहाख सन्तान प्राप्त कर्लक उहाँ दावी कर्ल । ‘सती मन्दिरक् टल्वम लहाख ढेर मनै लर्का पाइल ढेर उदाहरण ड्याख सेकजैठा,’ उहाँ कल ।
दंगीशरण गाउँपालिका प्रकाशन करल हमार रिति, हमार संस्कृति पोस्टामसे साभार